» प्रर्दशनी
» नाट्य समारोह
» नृत्य समारोह
» मेला महोत्सव/समारोह
» छत्तीसगढ़ पद्मश्री पद्मभूषण पुरुस्कार
 
 
» TRADITIONAL ORNAMENTS
» CHHATTISGARHI VYANJAN
» TRADITIONAL INSTRUMENTS
 
SUCCESSOR LIST
 
OTHER LINKS
छत्तीसगढ़ी राजभाषा आयोग
छत्तीसगढ़ी को राज्य की राजभाषा का दर्जा प्रदान कर छत्तीसगढ़ी के प्रचलन, विकास एवं राजकाज में उपयोग हेतु समस्त उपाय करने के उद्‌देश्य से राज्य सरकार द्वारा 'छत्तीसगढ़ी राजभाषा आयोग' की स्थापना की गई है। छत्तीसगढ़ के वरिष्ठ साहित्यकारों को उनकी छत्तीसगढ़ी साहित्य के प्रति सेवा हेतु 'छत्तीसगढ़ी राजभाषा आयोग सम्मान 2010' से सम्मानित किया गया। छत्तीसगढ़ी या छत्तीसगढ़ी से संबंधित किसी भी भाषा की पुस्तकों का क्रय कर संग्रहित करने की योजना 'माई कोठी' की पुस्तकों का क्रय करने की योजना है। छत्तीसगढ़ी के लुप्त होते शब्दों को संग्रहित करने हेतु 'बिजहा कार्यक्रम' प्रारंभ किया गया जिसका उद्‌देद्गय राज्य के सभी लोगों से प्रचलन से बाहर हो रहे सभी शब्दों को संग्रह करने की योजना है। कुशाभाऊ ठाकरे पत्रकारिता विश्विद्यालय में पी.जी.डिप्लोमा इन फंक्शनल छत्तीसगढ़ी का पाठ्‌यक्रम प्रारंभ कराया गया। छत्तीसगढ़ी और सरगुजिहा के बीच अंतरसंबंध विषय पर अंबिकापुर मे संगोष्ठी का आयोजन किया गया। इसी प्रकार माई कोठी योजना के अंतर्गत छत्तीसगढ़ एवं छत्तीसगढ़ी में लिखे साहित्य का एकत्रीकरण किया जा रहा है।
अध्यक्ष सचिव सदस्य सदस्य
डॉ. दानेश्वर शर्मा पद्‌मश्री डॉ. सुरेन्द्र दुबे श्री केदार सिंह परिहार सुश्री निर्मला तिवारी
कार्यलय
अध्यक्ष, छत्तीसगढ़ी राजभाषा आयोग शहीद स्मारक भवन, रायपुर (छ.ग.) दुरभाष क्र. - 0771-2222121