» प्रर्दशनी
» नाट्य समारोह
» नृत्य समारोह
» मेला महोत्सव/समारोह
» छत्तीसगढ़ पद्मश्री पद्मभूषण पुरुस्कार
 
 
» TRADITIONAL ORNAMENTS
» CHHATTISGARHI VYANJAN
» TRADITIONAL INSTRUMENTS
 
SUCCESSOR LIST
 
OTHER LINKS

भारतीय स्वतंत्रता संग्राम में जनजातीय अंचल के अनेक गुमनाम क्रांतिवीरों में बस्तर के गुण्डाधूर, एक चमत्कारिक चरित्र हैं । आपका जन्म बस्तर के नेतानार ग्राम में हुआ था । धुरवा जाति का यह वीर युवक सन् 1910 के आदिवासी विद्रोह का प्रमुख सूत्रधान था । इस समय अंग्रेजों के कुटिल शासन के प्रति जनरोष बस्तर में भूमकाल के रुप में प्रकट हुआ था । इस विप्लव के केन्द्र में आपका अदम्य शौर्य एवं रणनीति प्रकाशित हुई । 1 फरवरी 1910 को समूचे बस्तर में विद्रोह का भूचाल आ गया । आपके नेतृत्व में अंग्रेजी शासन को जड़ से उखाड़ फेंकने के लिए शासकीय संस्थाओं तथा संपत्तियों को निशाना बनाया गया ।
आपने मूरतसिंह बख्शी, बालाप्रसाद नाजिर, वीरसिंह बंदार और लाल कालिन्द्री सिंह के सहयोग से विद्रोह का कुशल संचालन किया । विद्रोह का संदेश गांव-गांव तक पहुंचाने के लिए लाल मिर्ची तथा आम की टहनी का उपयोग किया गया । विद्रोह में सबसे पहले अंग्रेजों के संचार-तंत्र को नष्ट कर अंग्रेज समर्थक कर्मचारियों को भयाक्रांत किया गया तब रायपुर से मेजर गेयर और डी ब्रेट को बस्तर जाना पड़ा । अंग्रेजों ने क्रूरतापूर्वक ग्रामों को जलाने के साथ-साथ अनेक निरपराध लोगों को फांसी पर लटकाया । मई 1910 तक यह विद्रोह कुचल दिया गया ।
आपने पुनः अपने सहयोगियों को एकत्रित कर ग्राम अलनार में अंग्रेजों से मुकाबला किया लेकिन इस बार एक विश्वासघाती ने आपकी जानकारी अंग्रेजों को दे दी । आपको चारों ओर से घेर लिया गया, किंतु सैनिकों की बंदूकों का सामना करते हुए आप बच निकले । अंग्रेजों ने बस्तर का चप्पा-चप्पा छान मारा, लेकिन आप अंत तक पकड़ में नहीं आए ।
गुण्डाधूर एक महान सेनानी, छापामार युद्ध के जानकार तथा देशभक्त होने के साथ-साथ आदिवासियों के पारंपरिक हितों के लिए जागरुक थे । जनश्रुतियों तथा गीतों में आपकी वीरता का वर्णन मिलता है । आपका त्याग और बलिदान स्मरणीय तथा प्रेरणादायक है । छत्तीसगढ़ शासन ने उनकी स्मृति में साहसिक कार्य तथा खेल के क्षेत्र में उत्कृष्ट प्रदर्शन के लिए गुण्डाधूर सम्मान स्थापित किया है ।

सम्मान ग्रहिता
2001 2002 2003 2004 2005 2006 2009
श्री आशीष अरोरा श्री कृष्णा साहू ---- हैण्डबॉल दल सीनियर महिला वर्ग, भिलाई

श्री नोह रोनाल्ड इमानुएल
कु. रीना साहू
श्री रुस्तम सारंग
---- श्री अमरदीप सिंह राय कु. संतोष माझी कु. प्रीति बंछोर
2010 2011 2013 2012 2014 2015 2016
-----

 

 

श्री मृणाल चौबे कु. सवा अंजुम ------ अजय दीप सारंग श्री अम्बर सिंह भारद्वाज

श्री बीनू व्ही, भिलाई

 

कुमारी रामफुल टोंडर,
ग्राम-खैरा,मुंगेली
          श्री फिरोज अहमद खान, भिलाई -----